Top
नाहन

अब कर्फ्यू में ढील के दौरान मेडिकल शॉप के साथ खुलेंगी चश्मे की दुकानें व हो सकेंगे निर्माण कार्य

https://www.dalhousiehulchul.com/uploads/1586176915.jpg
22 April 2020 7:34 AM GMT
अब कर्फ्यू में ढील के दौरान मेडिकल शॉप के साथ खुलेंगी चश्मे की दुकानें व हो सकेंगे निर्माण कार्य
x

उपायुक्त सिरमौर द्वारा 20 अप्रैल को जारी किए गये आदेशों में कुछ संशोधन किए गए है, जिसके अनुसार अब कर्फ्यू में ढील के दौरान दवाईयो की दुकानो के साथ-साथ चश्मे की दुकाने सुबह 10.30 बजे से दोपहर 1.30 बजे तक प्रतिदिन खुली रहेगी।20 अप्रैल को जारी किए गये आदेशों के अनुसार आटो, ट्रक और ट्रेक्टर की मुरम्मत की दुकाने खोलने की अनुमति दी गई थी, जिसमें अब संशोधन के बाद ऑटो की मुरम्मत की दुकानों को खोलने की अनुमति को खत्म कर दिया गया है व केवल ट्रक और ट्रेक्टर के मुरम्मत की दुकानो को ही सुबह 10.30 बजे से दोपहर 1.30 बजे तक प्रतिदिन खोलने की अनुमति रहेगी। इसके अतिरिक्त कृषि उपकरणो, इसके स्पेयर पार्ट और मुरम्मत की दुकाने भी कर्फ्यू में दी गई ढील के दौरान ही खुलेंगी। साथ ही उच्चमार्गो पर स्थित ट्रक मुरम्मत की दुकाने व ढाबे भी प्रतिदिन खुलेंगे परन्तु इन सभी को लॉकडॉउन की गाइडलाइंस का पूर्णतया पालन करना अनिवार्य होगा। इसके अलावा नाहन-संराहा-कुमारहट्टी मार्ग के अलग- अलग हिस्सों के नवीनीकरण, मुरम्मत व सिमेंट कंकरीट पेवर ब्लॅाक का कार्य भी किया जा सकेगा ।केन्द्र सरकार व राज्य सरकार तथा उनसे संबंधित स्वायत निकाय के कार्यालय खुले रहेगे लेकिन सम्बधिंत विभाग के अधिकारियों को लॉकडाउन के दिशा निर्देशो का पालन सुनिश्चित करना होगा।

जनकार्य शुरू करने के लिए मानक संचालन प्रकियाओ के मुताबिक अगर कोई ऐजेन्सी जनकार्य शुरू करना चाहती है तो उसे कार्य विवरण, कार्य स्थल,ठेकेदार का नाम और नम्बर, कामगारो के नाम व उस कार्य के प्रस्तावित अनुपालन अधिकारी की सूचना प्रशासन को देनी होगी। इसके अतिरिक्त एजेन्सी को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि श्रमिक स्थानीय हो या पिछले 30 दिनों से उस जगह पर ही रह रहे हो तथा उनमें सक्रमण के कोई लक्षण न हो और न ही वह किसी दुसरे राज्य व जिला के हॉट-स्पाट घोषित किए गये क्षेत्र से आये व्यक्ति के सम्पंर्क में आये हो।एजेन्सी को लिखित में देना होगा कि काम में लगे श्रमिको को मास्क और अन्य जरूरी सुरक्षात्मक उपकरण उपलब्ध करवाये जायेगे तथा कोविड-19 से बचाव के लिए सभी सुरक्षा मानको का पालन किया जायेगा। साथ ही, नये श्रमिक को लगाने की सूचना कार्यकारी एजेन्सी द्वारा प्रशासन को दी जाएगी, ताकि उस व्यक्ति की आवश्यकता अनुसार मेडीकल जॉच हो सके। ऐसी सूचना न देने की स्थिति में काम को तुरन्त बन्द करने और श्रमिक को क्वारन्टाईन करने के आदेश दिए जा सकते है।

यह नामीत निगरानी अधिकारी की जिम्मेवारी होगी कि वह बिना किसी विलम्ब के ऐसी जानकारी अपने कार्यालय के उच्च अधिकारी के माध्यम से प्रशासन को देना सुनिश्चित करे।इसके बाबजूद भी श्रमिको के स्वास्थ्य जॉच की व्यवस्था हर दस दिन में कार्य स्थल पर या उनके रहने के स्थान पर की जाये। अगर किसी श्रमिक में बीमार होने के लक्षण नजर आते है तो यह कार्यकारी एजेन्सी की जिम्मेदारी होगी कि वह निगरानी अधिकारी व ठेकेदार के माध्यम से स्वास्थ्य प्राधिकारियों को सूचना दे ताकि स्वास्थ्य जॉच और सहायता मुहैया करवाई जा सके।मनरेगा कार्याे में इन सभी बातो की अनुपालना की जानकारी खण्ड विकास अधिकारी या नगर परिषद को देनी होगी तथा सम्बंधित पंचायत या वार्ड सदस्यो द्वारा इसकी अनुपालना सुनिश्चित की जायेगी।

Next Story