Top
नाहन

कोरोना महामारी में बुजुर्गों का रखें विशेष ध्यान - जिला दण्डाधिकारी

16 April 2020 11:39 PM GMT
कोरोना महामारी में बुजुर्गों का रखें विशेष ध्यान - जिला दण्डाधिकारी
x

जिला दण्डाधिकारी सिरमौर डॉ आर के परुथी ने बताया की सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ मिलकर कोविड-19 के संक्रमण से वरिष्ठ नागरिकों के बचाव के लिए एडवाइजरी जारी की है। उन्होंने जिला में रह रहे समस्त वरिष्ठ नागरिक जिनकी आयु 60 वर्ष से अधिक है तथा जो लोग उनकी देखभाल कर रहे हैं, से अपील की है वह इस एडवाइजरी की अनुपालना सुनिश्चित करें।

उन्होंने बताया कि जनगणना 2011 के मुताबिक, भारत में 60 वर्ष से अधिक आयु वाले करीब 16 करोड़ बुजुर्ग हैं और बुजुर्गों में कोविड-19 के संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। यह एडवाइजरी बुजुर्गों और उनकी देखरेख करने वालों के लिए हैं की कैसे बुजुर्गों की इस महामारी के दौरान देखभाल की जाये।

एडवाइजरी के अनुसार बुजुर्ग व्यक्तियों को घर में ही रहना चाहिए और कोशिश करें इस महामारी के दौरान कोई और व्यक्ति बहार से आपके घर न आए। अगर मिलना ज्यादा जरूरी है तो अपने और आये हुए व्यक्ति के बीच कम से कम एक मीटर की दुरी बनाकर रखें। अगर बुजुर्ग व्यक्ति अकेला रह रहा है तो वह अपने तन्दुरुत पडोसी की मदद से अपने लिए घर पर जरूरी सामान मंगवा सकता है। बुजुर्ग व्यक्तियों को छोटे-बड़े किसी भी प्रकार के आयोजन में नहीं जाना चाहिए और घर पर ही रहना चाहिए। अगर हो सके तो हलकी कसरत या योग कर सकते हैं। बुजुर्ग व्यक्तियों को अपनी साफ-सफाई का खास ख्याल रखना चाहिए। खाना खाने से पहले और बाथरूम इस्तेमाल करने के बाद हाथ साबुन और पानी के साथ कम से कम 20 सेकेंड्स तक आवश्य धोने चाहिए। ज्यादा छुई जाने वाली चीजें जैसे की चस्मा आदि को बार-बार साफ करें। खांसते और छींकते वक्त केवल टिश्यू पेपर या रुमाल कर इस्तेमाल करें और ऐसे करने उपरांत उस टिश्यू पेपर को बंद डिब्बे में डाल दें तथा अपने रुमाल को और अपने हाथों को अच्छे से धो लें।

बुजुर्ग व्यक्तियों को घर का बना हुआ अच्छा खाना खाना चाहिए और समय-समय पर पानी पीते रहना चाहिए तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए जूस पीना चाहिए। अपनी दवाई रोज नियमित तौर पर लेते रहे। अपनी सेहत का ध्यान रखें और अगर बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ हो या कोई और परेशानी हो तो अपने नजदीकी स्वास्थ्य संसथान में संपर्क करें तथा दिए गए परामर्श का पालन करें। अपने परिवार के सदस्य जो दूर रह रहे हो, रिश्तेदार या मित्रों से फोन पर या वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बात करें।

एडवाइजरी के अनुसार बुजुर्ग व्यक्तियों को ऐसे व्यक्तियों के संपर्क में नहीं आना चाहिए जिनमे कोरोना वायरस के लक्षण नजर आ रहे हों। अपने दोस्तों और करीबियों से न हाथ मिलाये और न ही उनसे गले मिलें। भीड़भाड़ वाली जगह जैसे की पार्क, बाजार या धार्मिक स्थल पर जाने से परहेज करें। नंगे हाथों में खांसने या छींकने से बचे। अपने चेहरे, आँखों और नाक को छूने से बचें। अपनी सेहत की नियमित जांच के लिए फोन पर ही परामर्श लें और अति आवश्यक होने पर ही अस्पताल जाएं। इस महामारी के दौरान अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को अपने घर पर न बुलाएं।

जो व्यक्ति बुजुर्ग लोगों का ध्यान रख रहे हैं उन्हें बुजुर्गों की मदद करने से पहले अपने हाथ अच्छे से धो लेने चाहिए। बुजुर्ग व्यक्ति का ध्यान रखते वक्त अपना नाक और मुहं को टिश्यू पेपर या कपडे से अच्छी तरह ढक लें। अधिकतर उपयोग होने वाली सतह जैसे वाकिंग केन, वॉकर, व्हील चेयर इतियादी को साफ करते रहे। बुर्जुग व्यक्तियों को हाथ अच्छी तरह धोने में उनकी सहायता करें और उनके खाने-पीने का तथा उनकी सेहत का भी पूरा ध्यान रखें। अगर बुजुर्ग व्यक्ति को बदनदर्द के साथ या उसके बिना बुखार है, लगातार खांसी, सांस लेने में तकलीफ या असामान्य रूप से भूख न लगना जैसे लक्षण हों तो हेल्पलाइन पर संपर्क करें।

बुजुर्ग व्यक्ति का ध्यान रख रहे व्यक्ति इस बात का विशेष ध्यान रखें की बुजुर्ग व्यक्ति को सारा दिन बिस्तर पर ही न रखा जाये। बिना हाथ धोये बुजुर्ग व्यक्ति की मदद न करें। यदि बुजुर्गों का ध्यान रख रहे व्यक्ति को बुखार, खांसी या सांस लेने में तकलीफ है तो वह बुजुर्गों के करीब न जाए।

इसके अतिरिक्त, बुजुर्ग अपनी मानसिक तंदुरुस्ती के लिए घर पर अपने परिवार वालों से बात करते रहे। बुजुर्ग अपने पड़ोसियों से भी बात कर सकते हैं लेकिन उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा तथा एक स्थान पर ज्यादा लोग इकठ्ठा न हो। बुजुर्गों को शांत वातावरण मुहैया करवाएं तथा उन्हें उनकी पुरानी रूचि जैसे की पेंटिंग, संगीत सुनना या किताबें पढ़ने के लिए प्रेरित करें। यह सुनिश्चित करें की बुजुर्गों तक केवल भरोसेमंद जानकारी ही पहुंचे और वह उसी पर विश्वास करें। अकेलापन को दूर करने के लिए तम्बाकू, शराब और अन्य नशीले पदार्थों का सेवन न करें। अगर बुजुर्ग किसी दिमागी बीमारी से जूझ रहे हैं तो हेल्पलाइन नंबर 08046110007 पर फोन करें।

अगर बुजुर्ग मानसिक तनाव महसूस कर रहे हैं तो वह अकेले न रहे और खुद को कमरे में बंद न रखें। किसी सनसनीखेज खबर या सोशल मीडिया पोस्ट पर ध्यान न दे तथा अप्रमाणित खबर या जानकारी को किसी और से साँझा न करें।

Next Story