Top
चंबा

कोविड को लेकर जल्द बुलाया जाए विधानसभा का विशेष सत्र : आशा कुमारी

7 July 2020 4:45 AM GMT
कोविड को लेकर जल्द बुलाया जाए विधानसभा का विशेष सत्र : आशा कुमारी
x

डलहौज़ी विधानसभा की विधायक व पंजाब प्रदेश कांग्रेस की प्रभारी आशा कुमारी ने कोविड-19 को लेकर विधानसभा का सत्र बुलाने की मांग की है उन्होंने कहा कि अगर और कोई विषय नहीं रखना है तो केवल कोविड-19 पर विधानसभा का एक विशेष सत्र बुलाया जाए जिसमे केवल कोविड-19 को लेकर ही चर्चा की जाए । यह बात उन्होंने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कही । उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में अनलॉक टू की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है वहीं कोविड-19 के मामले भी प्रदेश में लगातार बढ़ रहे हैं और आज कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा प्रदेश में बढ़ कर एक हजार के पार हो गया है ।

वहीँ उन्होंने कहा कि अगर प्रदेश की आबादी देखें तो उसके हिसाब से यह आंकड़ा बहुत ज्यादा है जोकि कि प्रदेश के लिए चिंता का विषय है । जिस कारण इस विषय पर विधानसभा में गहन मंथन की आवश्यकता है। विधानसभा में हर विधायक के पास कोविड-19 को लेकर कोई ना कोई सुझाव और विचार होंगे जिनको की प्रदेश हित में एक दूसरे के साथ सांझा कर एक संयुक्त रणनीति इस विषय को लेकर बनाई जा सकती है। कांग्रेस पार्टी पहले भी कई बार विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग कर चुकी है।

स्कूल खोलने के विषय में जब आशा कुमारी जी से पूछा गया तो उन्होंने इसे साफ तौर पर नकार दिया। उन्होंने कहा कि भारत में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं और स्थिति यह है कि हम रशिया को पछाड़कर आज विश्व में तीसरे नंबर पर पहुंच गए हैं। ऐसे में बच्चों की सुरक्षा बहुत आवश्यक है, उन्होंने कहा कि स्कूल हरगिज़ नहीं खुलने चाहिए और इस साल को जीरो ईयर घोषित कर देना चाहिए।

उन्होंने आगे बताया कि आज जहां हम कोविड-19 के रिपोर्टेड मामलों में हम विश्व के तीसरे स्थान पर हैं तो वहीँ टेस्टिंग के मामले में हमारा देश विश्व में 138 में नंबर पर है । ऐसे में साफ जाहिर होता है कि अगर टेस्टिंग को बढ़ाया जाए तो वह दिन दूर नहीं जब भारत विश्व में पहले नंबर पर भी पहुंच जायेगा जोकि एक बहुत ही चिंता की बात है । उन्होंने कहा कि पूरे हिमाचल को खोल देना सरकार की सोच अजीबोगरीब है ऐसे में अगर होटल्स खुले भी तो सरकार के लिए किसी चुनौती से कम नहीं होगा क्योंकि जो पर्यटक बाहर से आ रहे हैं उन्हें कोविड-19 का टेस्ट करवाना होगा और 72 घंटे पहले की रिपोर्ट साथ में रखनी होगी इससे पर्यटकों को भी परेशानी झेलनी पड़ेगी हालांकि जहां लाखों की संख्या में पर्यटक हिमाचल प्रदेश में आते है वहीँ उनमें से अभी तक दो तीन सौ लोगों ने हिमाचल प्रदेश आने की इच्छा जाहिर की है । सरकार को यह फैसला वापस लेना चाहिए और होटल व्यवसायियों को राहत पैकेज का ऐलान करना चाहिए उनके बिल माफ करना चाहिए इसके अलावा जो होटल में लोन लिया है उनकी इमाई सहित अन्य टैक्स 3 साल के लिए माफ कर देना चाहिए।

Next Story

हमीरपुर