Top
चंबा

जिला आपदा नियंत्रण केंद्र लॉक डाउन के दौरान कई लोगों के लिए हुआ मददगार साबित

19 May 2020 4:34 AM GMT
जिला आपदा नियंत्रण केंद्र लॉक डाउन के दौरान कई लोगों के लिए हुआ मददगार साबित
x

जिला के भरमौर क्षेत्र के कूंर के रहने वाले हेमराज को लॉक डाउन के दौरान पेश आ रही राशन की दिक्कत को जिला मुख्यालय पर प्रशासन द्वारा संचालित आपदा प्रबंधन केंद्र ने राहत पहुंचाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई। हेमराज बताते हैं कि उन्हें राशन की किल्लत थी तो उन्होंने चम्बा फोन करके अपनी समस्या बताई। समस्या का समाधान हुआ और उन्हें राशन मुहैया करवा दिया गया है। हेमराज की तरह सैकड़ों ऐसे लोग हैं जिन्हें कोरोना महामारी के इस मुश्किल वक्त में जिला आपदा प्रबंधन केंद्र के माध्यम से प्रशासन ने मदद पहुंचाई। राशन, रसोई गैस और दवाइयों की उपलब्धता के अलावा आवश्यक तौर पर आवागमन करने के लिए कर्फ्यू पास मुहैया करने को लेकर प्रशासन ने जो कदम उठाए उनमें आपदा प्रबंधन केंद्र के नियमित और तत्पर संचालन की भी बहुत बड़ी भागीदारी रही।

जिला प्रशासन का आपदा प्रबंधन केंद्र लॉक डाऊन अवधि के दौरान कई लोगों के लिए मददगार साबित हुआ है। उपायुक्त एवं जिला मजिस्ट्रेट विवेक भाटिया ने बताया कि लॉक डाऊन अवधि के दौरान आपदा प्रबंधन केंद्र द्वारा आवश्यक खाद्य वस्तुओं और दवाइयों से लेकर कर्फ्यू पास समेत अन्य सुविधाएं लोगों को मुहैया करने में अपनी विशेष भूमिका निभाई है। इस केंद्र में कर्मचारी शिफ्ट आधार पर ड्यूटी अंजाम दे रहे हैं और चौबीसों घंटे 1077 के अलावा कोविड व्हाट्सएप हेल्पलाइन नंबर 89883-26950 पर लोगों की समस्याओं को लेकर आई फोन कॉल्स और मेसेज को रिसीव करने के बाद उसका पूरा डाटा बेस तैयार करके संबंधित अधिकारी को समस्या के निराकरण के लिए भेजा जाता है। चौबीसों घंटे शिफ्ट के आधार पर संचालित होने वाले इस केंद्र में अब तक 2 हजार से अधिक फोन कॉल व रिक्वेस्ट मेसेज अटेंड किए जा चुके हैं।

उपायुक्त ने बताया कि जिला आपदा प्रबंधन केंद्र ने अब तक जिन फोन कॉल्स को अटेंड किया और संबंधित विभागीय अधिकारियों को समाधान के लिए अग्रेषित किया उनमें जिला के खंड विकास अधिकारियों को 317, एसडीएम को 185, स्वास्थ्य विभाग को 132, पुलिस को 57, खाद्य नागरिक आपूर्ति विभाग को भेजी 112 समस्याएं शामिल हैं। जबकि अत्यंत आवश्यक मूवमेंट के लिए 644 लोगों की कर्फ्यू पास प्राप्त करने की रिक्वेस्ट को केवल इस केंद्र के माध्यम से प्रोसेस किया गया। इसके अलावा 607 कॉल्स विभिन्न तरह की जानकारियां लेने के लिए भी आई।

उपायुक्त ने कहा कि अब लॉक डाऊन-4 जारी है। इसमें कुछ रियायतें शर्तों के आधार पर दी गई हैं लेकिन फिर भी लोगों को अनावश्यक तौर पर बाहर निकलने से गुरेज करना चाहिए और सोशल डिस्टेंसिंग को सबसे बड़ी प्राथमिकता देने की जरूरत है।

Next Story