Top
शिमला

जुब्बल-कोटखाई क्षेत्र के लोगों ने एसडीएमए कोविड-19 फंड में अशंदान किया

1 May 2020 6:38 AM GMT
जुब्बल-कोटखाई क्षेत्र के लोगों ने एसडीएमए कोविड-19 फंड में अशंदान किया
x

मुख्य सचेतक नरेन्द्र बरागटा ने आज यहां जिला शिमला के जुब्बल-कोटखाई क्षेत्र के लोगों की ओर से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर को हि.प्र. एसडीएमए कोविड-19 स्टेट डिजास्टर रिस्पाॅंस फंड के लिए 37,85,951 रुपये के चैक में भेंट किए।

इस फंड में श्री दुर्गा माता मन्दिर न्यास, हाटकोटी ने 25 लाख रुपये, पिकअप यूनियन कुड्डू एवं प्रकाश चन्द एण्ड बद्रर्ज ने दो-दो लाख रुपये, युवा मोर्चा कोटखाई ने 1.64 लाख रुपये, लक्ष्मी को-आपॅरेटिव सोसायटी धरौंक ने 1.50 लाख रुपये, मन्दिर समिति झड़ग ने एक लाख रुपये, डाॅ. ओम प्रकाश शर्मा ने 50 हजार, सिकन्दर ने 39,100 रुपये, इन्द्र धान्टा ने 31,000 रुपये, सुरेन्द्र शर्मा ने 30,000 रुपये, अशोक जस्टा ने 25,800 रुपये, कृष्ण पनैइक ने 25,500 रुपये तथा पंकज ठाकुर ने 21,000 रुपये का अंशदान किया है। मुख्यमंत्री ने इस पुनीत कार्य के लिए सभी का आभार व्यक्त किया।

वहीँ मुख्य सचेतक हिमाचल प्रदेश नरेंद्र बरागटा ने आज मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से भेंट कर जिला शिमला के ऊपरी क्षेत्र में हुई भारी ओलावृष्टि के कारण सेब व चैरी इत्यादि फलों कोे हुए नुकसान के संबंध में अवगत करवाया। मुख्य सचेतक ने मुख्यमंत्री से ओलावृष्टि के कारण हुई भारी क्षति को देखते हुए इसका आकलन करने के आदेश पारित करने का आग्रह किया ताकि बागवानों को हुए भारी नुकसान की भरपाई की जा सके।

नरेंद्र बरागटा ने मुख्यमंत्री से यह भी आग्रह किया है कि बागवानों द्वारा बैंकों से लिए गए ऋण की वसूली पर रोक लगाई जाए तथा बागवानों को अन्य संभव राहत देने पर भी विचार किया जाए। उन्होंने मुख्यमंत्री से सीए स्टोर भारी मात्रा में स्थापित करने तथा प्रोसेसिंग प्लांट लगाने के लिए प्रभावी कदम उठाने का आग्रह किया ताकि बागवानों के फलों को होने वाले नुकसान से बचाया जा सके। उन्होंने शिमला के पराला में स्वीकृत सीए स्टोर तथा प्रोसेसिंग प्लांट को लगाने में गति प्रदान करने का भी मुख्यमंत्री से निवेदन किया ताकि बागवानों को इसका लाभ मिल सके।

उन्होंने कोटखाई के थरोला में क्षेत्रवासियों की मांग के अनुरूप स्वास्थ्य उप केन्द्र को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के तहत स्तरोन्नत करने की भी मांग की। उन्होंने शिमला के विद्यार्थियों को बनारस, मुम्बई, पठानकोट आदि क्षेत्रों से वापिस लाने के लिए कदम उठाने पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।

Next Story