Top
चंबा

ट्रांजिट कैंप के द्वारा भेड़ पालकों के प्रवेश पर रखी जा रही है निगरानी

17 April 2020 7:13 AM GMT
ट्रांजिट कैंप के द्वारा भेड़ पालकों के  प्रवेश  पर रखी जा रही है निगरानी
x

कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण को प्रभावी तरीके से रोकथाम हेतु जनजातीय क्षेत्र भरमौर उपमंडल में कोई भी व्यक्ति हेल्थ स्क्रीनिंग चेकअप के बिना भरमौर उपमंडल में प्रवेश ना कर पाए इसके लिए प्रशासन द्वारा स्वास्थ्य विभाग की टीम को दुगैठी व लाके वाली माता ने में जांच हेतु लगाया गया है । वहीं दूसरी ओर भरमौर उप मण्डल की ओर आने वाले भेड़ पालकों के प्रवेश पर भी विशेष निगरानी रखी जा रही है। जिसके लिए प्रशासन द्वारा पशुपालन विभाग की 3 ट्रांजिट कैंप की व्यवस्था की गई है । एक कैंप सुनारा में तथा एक कैंप लूणा में व एक कैंप लाके वाली माता के स्वास्थ्य विभाग की चेक पोस्ट के साथ, संयुक्त रूप से 24 घंटे विभाग के कर्मी कार्य कर रहे हैं । यह जानकारी देते हुए अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी भरमौर पीपी सिंह ने कहा कि पशुपालन विभाग के इन शिविरों के माध्यम से पशुपालन विभाग के कर्मी लूणा में भेड़ पालकों की भरमौर उप मंडल की ओर आने और उनके गंतव्य स्थल की जानकारी हासिल कर रहे हैं, और उसका पूरा रिकॉर्ड दर्ज किया जा रहा है। जिसमें प्रत्येक भेड़ पालक का निचले क्षेत्रों से यात्रा हिस्ट्री व आगामी निर्धारित चारागाहों में जाने का भी पूरा ब्यौरा लिया जा रहा है ताकि किसी भी तरह कोविड-19 के संभावित संक्रमण की आशंका में संक्रमित को ट्रेस आउट करने में कोई मुश्किल ना आए ।

सहायक निदेशक भेड़ विकास पशुपालन विभाग भरमौर डॉक्टर सतीश कपूर ने कहा कि इन भेड़ पालकों को ट्रांजिट कैंपों में जनजातीय उपयोजना के तहत आवंटित धनराशि से खरीदी गई दवाइयां निशुल्क वितरित की जारही हैं । विभागीय कर्मी इन शिविरों के माध्यम से भेड़ एवं बकरियों के रोगों के निदान हेतु मौके पर भी दवाइयां भेड़ पालकों को उपलब्ध करवा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इन शिविरोंके माध्यम से अब तक लगभग 75 के करीब भेड़ पालकों के समूहों को कवर किया गया है, उन्होंने बताया कि जरूरतमंद भेड़ पालकों के लिए सूखे राशन की भी व्यवस्था भरमौर प्रशासन द्वारा की गई है । भेड़ पालकों का अपने माल मवेशियों के साथ प्रवेश जारी है जिनकी गणना का कार्य भी किया जा रहा है ।

Next Story