Top
मंडी

पार्वती महिला मंडल रहीधार द्वारा मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए भेंट किया 25000 का चेक

7 April 2020 6:40 AM GMT
पार्वती महिला मंडल रहीधार  द्वारा मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए भेंट किया 25000 का चेक
x

उपमण्डलाधिकारी थुनाग, सुरेन्द्र मोहन ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि उपमण्डल में जो लोग “एक पंचायत ,एक गाड़ी, एक व्यक्ति” का सिद्धांत अपनाएंगे उन्हें उपमण्डल के भीतर कर्फ्यू पास देने में प्राथमिकता दी जाएगी। इसके तहत एक व्यक्ति एक गाड़ी में सभी लोगों की आवश्यक वस्तुएं बाजार से लाएगा जिससे सभी लोगों को बाजार जाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। उन्होंने कहा कि आपदा की इस घड़ी में उपमण्डल की पहली ऐसी गैर सरकारी संस्था “ पार्वती महिला मण्डल रहीधार” जिसने आज मुख्यमन्त्री राहत कोष में मू0. 25,000/- का चैक भेंट करके मिसाल पेश की है। उपमण्डलाधिकारी ने इस नेक कार्य के लिए महिला मण्डल का धन्यवाद किया तथा उन्हें सैनिटाइजर भी दिए। इसके साथ ही उपमण्डल में कोई भी कोरोना संदिग्ध का मामला सामने नहीं आया हैं। विदेशों से जो 7 लोग उपमण्डल में आए हैं उनमें से 1 व्यक्ति होम क्वारंटाइन का 28 दिन का समय पूरा कर चुका है तथा दूसरे राज्यों से आए 395 लोगों में से लगभग 296 लोग सैल्फ आइसोलेशन के 14 दिन पूरे कर चुके है तथा सभी का स्वास्थ्य सामान्य चल रहा है। “एक्टिव केस फाइंडिग” अभियान की टीमें गांव गांव जाकर लोगों का स्वास्थ्य निरीक्षण करके जानकारी जुटा रही है। उपमण्डल में बाहरी लोगों के प्रवेश पर पूर्ण प्रतिबन्ध है तथा संदिग्धों पर विशेष नजर रखी जा रही है जिसके लिए छतरी व बगस्याड में 24 घण्टे चेक पोस्ट रखी गई है।

उपमण्डलाधिकारी ने सभी लोगों से अनुरोध किया कि किसी भी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न दें। इस उपमण्डल से कोई भी व्यक्ति तबलीगी जमात में शामिल नहीं हुआ है तथा न ही कोई व्यक्ति बाहर से आया है जिसने इसमें भाग लिया हो। सभी लोग सामाजिक दूरी बनाएं रखें तथा दुकानों व उचित मूल्यों की दुकानों पर ज्यादा भीड़ इक्कठी न करें। इसके अलावा जो वाहन चालक आवश्यक वस्तुओं को उपलब्ध करवाने में लगे हैं वे सभी अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

उपमण्डलाधिकारी ने सभी गैर सरकारी संस्थाओं, संगठनों से आग्रह किया कि जो भी संस्था/संगठन आपदा की इस घड़ी में जरुरतमन्दों की मदद करना चाहती हैं, वे सीधे तौर पर प्रशासन को दें ताकि जरुररतमन्द लोंगों की मदद की जा सके।

Next Story

हमीरपुर