Top
चंबा

बगढार पंचायत में बरसात से दरकी पहाड़ी के मलबे में दबकर सात बकरियां मरीं

8 July 2020 11:43 PM GMT
बगढार पंचायत में बरसात से दरकी पहाड़ी के मलबे में दबकर सात बकरियां मरीं
x

उपमंडल डलहौजी के अंतर्गत आने वाले बनीखेत क्षेत्र की बगढार पंचायत के ततयानी जंगल में मलबे की चपेट में आने से 7 बकरियां दबकर मर गई है वहीं इस हादसे में भेड़ पालक बाल-बाल बच गया है । हादसे में तिलक राज पुत्र स्वर्गीय ज्ञानचंद निवासी गांव मझलान को भारी क्षति उठानी पड़ी है।

घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस चौकी बनीखेत के दल सहित, वन विभाग, पशुपालन विभाग व राजस्व विभाग की टीमें मौके पर पहुंच गई थीं। जबकि बकरियों को जेसीबी की मदद से मलबे के नीचे से निकालने का प्रयास किया जा रहा था। मलबा अधिक होने के कारण समाचार लिखे जाने तक एक ही मृत बकरी को मलबे से निकाला जा सका था। प्राप्त जानकारी के अनुसार बगढार पंचायत के मझलान गांव का भेड़पालक तिलक राज पुत्र ज्ञान चंद बुधवार सुबह अपनी 21 बकरियों को चराने के लिए छणूईं गांव के समीप ततीयाना जंगल की तरफ गया था।

इसी दौरान छणूईं गांव के लिए निर्माणाधीन सडक़ की हुई कटिंग के कारण पहाड़ी का एक बड़ा हिस्सा भारी बरसात के कारण दरक गया और काफी ज्यादा मलबा वहां चर रही बकरियों के उपर आ गिरा। इस घटना में सात बकरियों की भारी मलबे के नीचे दबने से मौत हो गई। जबकि शेष 14 बकरियां वहां से भागकर दूर जा पहुंची और मलबे की चपेट में आने से बच गईं। घटना में भेड़पालक जो कि बकरियों से कुछ दूरी पर था वह भी सकुशल है।

उधर घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस विभाग, वन विभाग, राजस्व विभाग व पशुपालन विभाग की टीमें भी मौके पर पहुंच गई थीं। यहां लगी जेसीबी की मदद से बकरियों को मलबे से निकालने का प्रयास शुरु किया गया। परंतु काफी ज्यादा मलबे को हटाने में मुश्किल पेश आ रही थी। समाचार लिखे जाने तक एक बकरी का ही शव मलबे से निकाला जा सका था। प्रभावित भेड़-बकरी पालक तिलक राज का कहना है कि इस घटना में सात बकरियों के मारे जाने से उसे हजारों का नुक्सान हुआ है।

उधर पुलिस घटना के संबंध में जांच में जुट गई है। एसडीपीओ डलहौजी रोहिन डोगरा ने मामले की पुष्टि की है।

Next Story