Top
कुल्लू

बागवानी गतिविधियों को दिया जाएगा विशेष बल: डॉ. ऋचा वर्मा

बागवानी गतिविधियों को दिया जाएगा विशेष बल: डॉ. ऋचा वर्मा
x

बागवानी कुल्लू जिला के लोगों का मुख्य व्यवसाय है और जिला की आर्थिकी में बागवानी का महत्वपूर्ण योगदान है। आगामी 15 जून से जिला में अनेक प्रकार के फल बाजार के लिए तैयार हो जाएंगे। यह बात उपायुक्त डाॅ. ऋचा वर्मा ने सोमवार को पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि जिला के किसान बड़ी संख्या में बागवानी गतिविधियों से जुड़े हैं और उनकी आजीविका और आर्थिकी इसी पर निर्भर है। कोविड-19 संकट के बीच बागवानी गतिविधियां प्रभावित न हो, इसके लिए जिला प्रशासन ने अभी से कमर कस ली है। डाॅ. ऋचा वर्मा ने कहा कि लाॅक-डाउन 1.0 के दौरान ही किसानों व बागवानों को अपनी गतिविधियां जारी रखने की अनुमति प्रदान कर दी थी जिसके चलते किसानों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हुई। बीज और पनीरी को उनके गांव तक पहुंचाने की पूरी व्यवस्था की गई। नर्सरी मालिकों को वाहनों के परमिट जारी करके कृषि व बागवानी विभागों ने किसानों की मांग के अनुरूप उनके घर द्वार तक बीज, पनीरी व कीटनाशकों की आपूर्ति सुनिश्चित बनाई।

उन्होंने कहा कि जिला में अनेक पलम, खुर्मानी, नाशपाती, अनार, सेब सहित अनेक प्रकार के फलों का बड़ी मात्रा में उत्पादन होता है। इसके विपणन के लिए बाहरी प्रदेशों से व्यापारियों तथा श्रमिकों की सुविधा के लिए अभी से इंतजामात करने शुरू कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले व्यापारियों को कोरोना संकट के दृष्टिगत उनकी तथा आम लोगों की सुरक्षा के लिए क्वारंटीन किया जाएगा अथवा आवश्यक एहतियात बरती जाएगी। इस संबंध में उन्होंने आम लोगों के सहयोग की भी अपील की है। उपायुक्त ने कहा कि सोमवार से अनलाॅक 1.0 शुरू होने पर लोगों के लिए अनेक प्रकार की रियायतें प्रदान की गई हैं। कफ्र्यू में ढील अब प्रातः 6 बजे से रात 8 बजे तक रहेगी। प्रदेश के अंदर बिना कफ्र्यू पास के आवागमन की सुविधा प्रदान की गई है।

हालांकि बाहरी राज्यों से आने वालों को पास अनिवार्य होगा। सोमवार से प्रदेश के अन्य भागों सहित जिला में भी बसों की आवाजाही शुरू हो गई है। बसों में सफर करते समय सामाजिक दूरी बनाए रखना और मास्क का उपयोग अनिवार्य होगा। सभी बस अड्डो पर पुलिस बल को तैनात किया गया है ताकि नियमों की पालना सुनिश्चित बनाई जा सके। डाॅ. ऋचा वर्मा ने कहा कि होटल व रेस्तरां भी खुल जाएंगे, लेकिन होटलों में पर्यटन गतिविधियां बहरहाल नहीं हो सकेंगी। यदि कोई व्यक्ति अपने खर्च पर होटल में क्वारंटीन होना चाहता हो तो इस सुविधा के लिए होटलों का उपयोग किया जा सकता है। धार्मिक स्थलों को खोलने के संबंध में कला, भाषा एवं संस्कृति विभाग द्वारा दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। सरकारी कार्यालयों में 100 फीसदी स्टाॅफ सुरक्षा उपायों को अपनाते हुए काम करेगा।

उपायुक्त ने कहा कि 31 मई को निरमण्ड तहसील के तहत जांओ गांव के 65 वर्षीय वरिष्ठ नागरिक को कोरोना पाॅजीटिव पाया गया है। वह परिजनों सहित हाल ही में दिल्ली से लौटा था। हालांकि व्यक्ति की धर्मपत्नी, बेटे और बहू की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। ग्राम पंचायत चायल के जांओ को पूरी तहर से सील कर दिया गया है। जांओ वार्ड को कंटेनमैंट जोन व ग्राम पंचायत चायल को बफर जोन घोषित किया गया है। कंटेनमैंट जोन में लोगों को आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति होम डिलिवरी के माध्यम से की जाएगी। संक्रमित व्यक्ति का उपचार कोविड केयर सेंटर कुल्लू (आयुर्वेद अस्पताल) में किया जाएगा। डाॅ. ऋचा वर्मा ने बताया कि जिला से अभी तक कुल 1135 सैंपल जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। इनमें से शुक्रवार को भेजे गए 79 सैंपलों में एक व्यक्ति की रिपोर्ट पाॅजिटिव आई है और पांच सैंपल प्रोसैसिंग में हैं। उन्होंने कहा कि जिला में पहली मार्च से अभी तक बाहरी प्रदेशों व जिलों से 6859 व्यक्ति आए हैं जिनमें 5430 ने क्वारंटीन अवधि पूरी कर ली है जबकि 1429 अभी भी क्वारंटीन पर हैं।

Next Story

हमीरपुर