Top
चंबा

बिना मास्क पांच हजार तक जुर्माना, आवश्यक कार्यो के लिए रहेगी सशर्त छूट

https://www.dalhousiehulchul.com/uploads/vivek.jpg
20 April 2020 8:54 PM GMT
बिना मास्क पांच हजार तक जुर्माना, आवश्यक कार्यो के लिए रहेगी सशर्त छूट
x

जिला दंडाधिकारी चंबा विवेक भाटिया ने सोमवार को परिधि गृह परिसर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा है कि कोरोना वायरस संक्रमण रोकने को लेकर जारी हिदायतों के तहत अब सार्वजनिक जगह पर बिना मास्क पहने, थूकने या पांच से अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने पर अर्थदंड लगाया जाएगा। कानून विशेषज्ञों की राय के बाद तय किया गया है कि आदेशों को न मानने वालों पर न्यूनतम एक हजार से अधिकतम पांच हजार रुपए अर्थदंड लगाया जाएगा। उन्होंने साथ ही स्पष्ट किया है कि पहले दस दिनों तक लोगों को प्रशासन के इन आदेशों के प्रति जागरूक किया जाएगा। तदोपरांत बिना मास्क पहने सार्वजनिक जगह पर घूमते या पांच से अधिक लोगों के इकट्ठा पाए जाने और थूकते पकड़े जाने पर नियमानुसार कार्रवाई करते हुए अर्थदंड वसूला जाएगा।

उन्होंने कहा कि चंबा जिला में अब मोबाइल रिपेयर की दुकानें स्टेनशनरी की दुकानों की तर्ज पर हरेक सोमवार को गुरुवार को खुलेगीं। उन्होंने कहा कि लोक निर्माण विभाग को भी पंद्रह कार्यो को आरंभ करने की अनुमति दी गई है। मगर कार्य के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान देना होगा। जिला में पावर प्रोजेक्ट को भी लिमिट काम करने की अनुमति प्रदान कर दी गई है। मगर शर्त यह रही कि प्रोजेक्ट प्रबंधन बाहर से कोई लेबर नहीं लाएगा। प्रोजेक्ट प्रबंधन को भी तय नियमों का पालना सुनिश्चित बनानी होगी। उन्होंने कहा कि चंबा में कर्फ्यू ढील के दौरान लोगों की भारी भीड़ उमड़ने को देखते हुए अब पुराने आदेशों को रिव्यू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जल्द ही संशोधित आदेश जारी कर दिए जाएंगें। उन्होंने कहा कि बाहरी जिलों के किसानों को मापदंड पूरे होने पर ही प्रवेश की अनुमति रहेगी। उन्होंने कहा कि एनएच किनारे ढाबे खोलने को लेकर संबंधित एसडीएम को अधिकृत किया गया है। एसडीएम रिव्यू के बाद ही ढाबे खोलने की इजाजत देंगें। मगर ढाबे में सीटिंग अरेंजमेंट पर पांबदी रहेगी। उन्होंने कहा कि मनरेगा कार्योंह्य के अलावा पंलबर व इलेक्ट्रिशियन को काम करने की इजाजत देने के लिए गाइडलाइन तैयार की जा रही हैं।

वहीँ साहो क्षेत्र में जिला प्रशासन ने लोगों को राहत प्रदान की है। यहां सील की गई 13 पंचायतों में से 11 पंचायतों को इस आदेश से सीलिंग से बाहर कर दिया गया है। अब महज दो पंचायतें साहो व पल्यूर ही एहतियात के तौर पर सील रहेंगी। शेष पंचायतों में लोगों की आवाजाही सामान्य हो पाएगी।

इन पंचायतों में अब अन्य क्षेत्रों की तरह रोजाना सुबह 11 बजे से दोपहर दो बजे तक आवाश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी व लोग खरीदारी कर सकेंगे। प्रशासन ने यह कदम बीते करीब दो सप्ताह से एक्टिव केस फाइं¨डग के दौरान कोई भी संक्रमित नहीं पाए जाने के कारण उठाया है। बीती छह अप्रैल को प्रशासन ने ग्राम पंचायत बरौर, जडेरा, कीड़ी, प्रौथा, राजिंडू, साहो-पद्धर, सिल्लाघ्राट, कैला, सराहन, गुवाड, अठलुई और पलहुई को पूर्णरूप से सील कर दिया था। उपायुक्त ने बताया कि साहो क्षेत्र की 11 पंचायतों में राहत दी गई है।

Next Story