Top
मंडी

मंडी जिला प्रशासन की कोरोना संकट से निपटने को है पूरी तैयारी

25 July 2020 6:32 AM GMT
मंडी जिला प्रशासन की कोरोना संकट से निपटने को है पूरी तैयारी
x

उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि मंडी जिला प्रशासन की कोरोना संकट से निपटने को लेकर पूरी तैयारी है। जिला में सभी जरूरी सुविधाएं, पर्याप्त व्यवस्था एवं पुख्ता प्रबंध हैं। उन्होंने जिलावासियों अपील की कि घबराएं नहीं, बस कोरोना से बचाव को लेकर सतर्क रहें, सावधानी बरतें और अफवाहों को फैलने से रोकने में सहयोग करें।
उन्होंने कहा कि जिला में ढांगसीधार के अलावा दो और समर्पित कोविड केयर सेंटर बनाए गए हैं। राजस्व प्रशिक्षण संस्थान जोगिंद्रनगर और पंचायती राज प्रशिक्षण संस्थान थुनाग को समर्पित कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। इस तरह अब समर्पित कोविड केयर सेंटर में 150 लोगों को रखने की क्षमता है। इसे अब बढ़ा कर 300 किया जा रहा है। इसके अलावा नेरचौक अस्पताल में भी मरीजों को आइसोलेशन में रखने की पर्याप्त सुविधा है।


26 मरीजों में से 25 कोविड केयर सेंटर और 1 नेरचौक मेडिकल कॉलेज शिफ्ट


ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि जिला में 24 जुलाई को सामने आए कोरोना संक्रमण के 26 मामलों में से 20 मामले ऐसे हैं जो पहले संक्रमित पाए गए लोगों के प्राथमिक संपर्क हैं, 6 लोग बाहर के राज्यों से जिला में आए हैं। एक दिन में 26 मामले आने पर भी स्थिति से निपटने को पर्याप्त साधन और तैयारी है। इन मरीजों को समर्पित कोविड केयर सेंटर और अस्पताल शिफ्ट किया गया है।
इनमें से एक को नेरचौक मेडिकल कॉलेज, 7 को समर्पित कोविड केयर सेंटर राजस्व प्रशिक्षण संस्थान जोगिंद्रनगर और 5 को ढांगसीधार और 13 को पंचायती राज प्रशिक्षण संस्थान थुनाग में शिफ्ट किया गया है।


मंडी शहर में 37 में से 36 सैंपल की रिपोट्स नेगेटिव


उपायुक्त ने मंडी शहर में कोरोना को लेकर लगाए जा रहे कयासों पर स्पष्ट किया कि शहर से बीते कल 37 सैंपल लिए गए थे, उनमें से 36 सैंपल नेगेटिव आए हैं, एक सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। उन्होंने कहा कि अभी जो भी पॉजिटिव मामले आ रहे हैं, वे पहले के संक्रमित लोगों के प्राथमिक संपर्क हैं, इसलिए किसी को डरने की बात नहीं है।


खंगाली जा रही होम आइसोलेशन की संभावनाएं


उपायुक्त ने कहा कि जिला में अब कोरोना के हल्के लक्षणों वाले और बिना लक्षण के मरीजों को होम आइसोलेशन में रखने की सम्भावनाओं को भी खंगाला जा रहा है। हालांकि जिला में अभी तक किसी को भी होम आइसोलेशन में नहीं रखा गया है, लेकिन आगे इसकी संभावना तलाशी जा रही है। मानक प्रक्रिया के अनुरूप कोविड मरीजों की उपयुक्त कैटेगराइजेशन करने के बाद सीएमओ और जिला निगरानी अधिकारी ऐसे मामलों में, मरीज के घर पर कोविड 19 प्रोटोकॉल के अनुरूप व्यवस्था होने पर, होम आइसोलेशन की सम्भावनाओं को देखेंगे।


पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आए हैं तो तुरंत स्वास्थ्य विभाग को बताएं


ऋग्वेद ठाकुर ने लोगों से अपील की कि यदि कोई व्यक्ति पॉजिटिव आए लोगों के संपर्क में आया है तो वह तुरंत खुद को आइसोलेट कर ले और नजदीकी आशा कार्यकर्ता अथवा नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान से संपर्क करे। इसके अलावा पंचायत प्रतिनिधियों, और संबंधित पार्षदों को भी जानकारी दे सकते हैं, ताकि जांच के लिए समय पर उनके सैंपल लिए जा सकें।
उन्होंने कहा कि जिला में सभी सिविल अस्पतालों में फ्लू ओपीडी स्थापित की गई हैं। इसके अलावा 7 जगहों पर सैंपल एकत्रण की और व्यवस्था की गई है।
उन्होंने लोगों से अपील की कि कोरोना से मिलते जुलते लक्षण दिखने पर अपने को आइसोलेट करें। लक्षण के साथ सार्वजनिक जगहों पर न आएं। नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क करें। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग के टोल फ्री नंबर 104 पर भी कॉल कर सकते हैं।


अफवाहों से बचें


उपायुक्त ने लोगों से अफवाहों से बचने की अपील की और कहा कि अपुष्ट व निराधार जानकारियों को लेकर किसी तरह के अनुमान न लगाएं। प्रशासन सभी को समय पर पुख्ता जानकरी मुहैया करवा रहा है। प्रशासन के फेसबुक पेज और अन्य अधिकृत सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर भी यह जानकारियां उपलब्ध हैं। उन्होंने लोगों से अफवाहों को फैलने से रोकने में सहयोग की अपील की है।कहा कि अफवाहें फैलाने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


9805970400 पर करें व्हाट्सऐप


उपायुक्त ने कहा कि कोई भी व्यक्ति कोरोना से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिए जिला आपदा प्रबंधन केंद्र के टोल फ्री नंबर 1077 पर कॉल कर सकता है। इसके अलावा जिला प्रशासन के व्हाट्सऐप नंबर 9805970400 पर भी कोरोना से जुड़ी जानकारी या समस्या को लेकर संदेश भेज सकते हैं, जिसका तुरंत समाधान किया जाएगा।
उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि सरकार के निर्देशों का पालन करें । किसी से मिलते हुए दो गज की दूरी और सही तरीके से फेस कवर पहने से कोरोना से बचाव संभव है।

Next Story

हमीरपुर