Top
ऊना

मुंबई से घर वापस लौटे 694 हिमाचली, डीसी संदीप कुमार ने बढ़ाया यात्रियों का हौसला

18 May 2020 7:40 AM GMT
मुंबई से घर वापस लौटे 694 हिमाचली, डीसी संदीप कुमार ने बढ़ाया यात्रियों का हौसला
x

मुंबई से 694 हिमाचलियों को लेकर रेलगाड़ी तीन घंटे की देरी से रात 1.50 बजे ऊना रेलवे स्टेशन पर पहुंची। जोरदार तालियों के साथ ट्रेन में सवार यात्रियों का हौसला बढ़ाया गया और उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने एक बार पुनः सबसे आगे खड़े होकर कमान संभाली। इस दौरान एसपी कार्तिकेयन गोकुलचंद्रन, एडीसी अरिंदम चौधरी, एएसपी विनोद धीमान सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे। ट्रेन के पहुंचने का समय रात्रि 10.50 बजे निश्चित था लेकिन ट्रेन किन्ही कारणों से लेट हो गई। डीसी ने बताया कि मुंबई से ट्रेन में कांगड़ा जिला से 242, हमीरपुर से 169, मंडी से 103, शिमला से 40, चंबा से 26, कुल्लू से दस, किन्नौर से 10, बिलासपुर से 43, ऊना से 38, सिरमौर व सोलन से 8-8 यात्री वापस पहुंचे हैं।

रेलगाड़ी से सभी यात्रियों को जिलावार उतारा गया। प्लेटफॉर्म से बाहर निकलने के लिए जिला प्रशासन ऊना ने दो रास्ते बनाए गए थे, ताकि यात्रियों को उतरने में किसी तरह की कोई असुविधा न हो। सबसे पहले कांगड़ा जिला के यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर उतारने के बाद उन्हें सैनिटाइज किया गया। इसके बाद हेल्थ डेस्क पर उनकी थर्मल स्क्रीनिंग की गई और उनसे फ्लू जैसे लक्षणों के बारे में जानकारी हासिल की गई। स्टेशन से बाहर निकलने से पहले सभी यात्रियों को खाने-पीने की सामग्री तथा पानी की बोतलें प्रदान की गई। इसके बाद उन्हें एचआरटीसी की बसों में बिठाकर उनके गंतव्यों की ओर रवाना किया गया। इस दौरान सभी यात्रियों ने सोशल डिस्टेंसिग के नियम का पालन किया और दिए जा रहे दिशा-निर्देशों की पालना की। बारी-बारी से सभी जिलों के यात्रियों को प्लेटफॉर्म पर उतारा गया।

राधा स्वामी सत्संग व्यास ने किया खाने का इंतजाम

उपायुक्त ने कहा कि मुंबई से लौटे सभी यात्रियों व ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों के लिए 1200 खाने के पैकेट बनाए गए थे और खाने की व्यवस्था राधा स्वामी सत्संग घर भदसाली की ओर से की गई थी। उन्होंने बताया कि लगभग 50 वॉलंटियर्स ने खाना बनाने से लेकर पैकिंग तक का बंदोबस्त किया था, जिसके लिए जिला प्रशासन ऊना सत्संग घर का आभारी है। डीसी ने विशेष रूप से सचिव राधा स्वामी सत्संग व्यास, सत्संग घर भदसाली गुरमुख सिंह का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि सामाजिक संस्थाएं इस पुनीत कार्य में जिला प्रशासन का सहयोग कर रही हैं, जिसके लिए वह सभी के आभारी हैं।

रात भर डटा रहा प्रशासन

एक ही रात में दो ट्रेनों से आए यात्रियों को बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए जिला प्रशासन के अधिकारी रात भर डटे रहे। डीसी संदीप कुमार लगभग एक बजे रेलवे स्टेशन पर पहुंच गए और मोर्चा संभाल लिया। उन्होंने तैनात सभी अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए और यात्रियों का उत्साह बढ़ाने और उन्हें बेहतर सुविधा प्रदान करने के लिए प्रेरित किया। रेलगाड़ी से यात्रियों के उतरते ही वह सभी हेल्प डेस्क पर जाकर निरीक्षण करते रहे। जिला प्रशासन की पूरी टीम दोनों ट्रेनों से अंतिम यात्री के उतरने तक मुस्तैदी के साथ कार्य करते रहे। नारी शक्ति ने कंधे से कंधे मिलाकर किया कार्य दोनों ट्रेनों से यात्रियों की उतारने के लिए महिला कर्मचारी व अधिकारियों ने भी कंधे से कंधा मिलाकर कार्य किया। आयुर्वेद विभाग की चार महिला डॉक्टरों ने रात भर चले कार्य में यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग में बहुमूल्य योगदान दिया। डॉ. जगजीत कौर देहल, डॉ नवदीप कौर, डॉ. निशा वर्मा तथा डॉ. पूनम जामला ने थर्मल स्कैनिंग का कार्य किया और यात्रियों से उनमें फ्लू जैसे लक्षणों के बारे में जानकारी हासिल की। नाइट ड्यूटी पर तैनात डॉ. जगजीत कौर देहल ने कहा कि यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग में आयुर्वेद विभाग की महिला डॉक्टर भी विशेष योगदान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि विभाग ने उन्हें दायित्व सौंपा है, जिसे वह पूरी ईमानदारी के साथ निभा रही हैं।

इसके अलावा आयुर्वेद विभाग के डॉ. जीएस देहल, डॉ भारत भूषण, डॉ. अमन सौंखला, जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉ. एसके नाग तथा समन्वयक राजेश शर्मा ने भी बढ़चढ़ कर कार्य किया।

Next Story