Top
चंबा

युवा सिविल इंजीनियर बागवान संजीव कुमार युवाओं के लिए हैं मिसाल- उपायुक्त

18 July 2020 5:24 AM GMT
युवा सिविल इंजीनियर बागवान संजीव कुमार युवाओं के लिए हैं मिसाल- उपायुक्त
x

उपायुक्त विवेक भाटिया ने बागवानी और कृषि विभागों के अधिकारियों को कहा कि विभाग स्थानीय तौर पर उभरे प्रगतिशील बागवानों और किसानों को दूसरों के लिए प्रेरणा बनाएं ताकि चंबा जिला में कृषि और बागवानी के क्षेत्रों में मौजूद व्यापक संभावनाओं को स्वरोजगार के बड़े अवसरों में बदला जा सके। उपायुक्त ने यह बात शुक्रवार को साहो क्षेत्र के साहो, चचोह और लग्गा के बागवानों और किसानों के साथ सीधा संवाद कायम करने के मकसद से अपने दौरे के दौरान विभागीय अधिकारियों को कही। उन्होंने कहा कि विभाग आने वाले समय में अपने जागरूकता शिविरों में भी इन बागवानों व किसानों को विशेष तौर से आमंत्रित करें।

उपायुक्त ने कहा कि चंबा जिला में कुछ इलाकों को छोड़कर पानी की प्रचुर प्राकृतिक संपदा मौजूद है। जरूरत इस बात की है कि इस संपदा का योजनाबद्ध तरीके से दोहन किया जाए और किसानों व बागवानों को इसका सीधा लाभ दिया जा सके। ऐसे में लोग अब पारंपरिक खेती से थोड़ा हटके नकदी फसलों के उत्पादन की तरफ अपना रुझान अवश्य बढ़ाएं।

उन्होंने कहा कि कृषि और ग्रामीण विकास विभागों को पहले ही जिले में माइक्रो सिंचाई स्कीमों के नेटवर्क में विस्तार करने के निर्देश दिए गए हैं और वे निरंतर इस दिशा में की जा रही प्रगति का ब्यौरा भी ले रहे हैं। कृषि और बागवानी विभाग वर्तमान परिप्रेक्ष्य और भविष्य की जरूरतों के मद्देनजर व्यापक कार्य योजना बनाएं और उसे व्यावहारिक तौर पर अमलीजामा भी पहनाया जाए तभी स्वरोजगार के इन दो बड़े क्षेत्रों में शिक्षित युवा वर्ग भी जुड़ेगा। उपायुक्त ने कहा कि साहो समेत जिले के जिन क्षेत्रों में मक्की की खेती को ज्यादा तरजीह दी जा रही है वहां के किसानों को कृषि विविधिकरण अपनाते हुए सब्जी उत्पादन को भी अपनाना चाहिए ताकि वे अपनी आर्थिकी को और मजबूत बना सकें।

उपायुक्त ने अपने दौरे में चचोह गांव के युवा सिविल इंजीनियर संजीव कुमार द्वारा तैयार सेब के बगीचे का भी निरीक्षण किया। प्रगतिशील बागवान संजीव कुमार के बगीचे को देखकर उपायुक्त बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने संजीव कुमार को और आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया। उपायुक्त ने कहा कि संजीव कुमार ने करीब 400 सेब के पौधों का बगीचा तैयार करके विशेषकर युवा वर्ग के लिए बहुत बड़ी मिसाल कायम की है। गौरतलब है कि संजीव कुमार ने 2015 में इन्जीनियरिंग करने के बाद अपने बगीचे में हाई डेंसिटी वैरायटी के पौधे लगाए हैं। लॉक डाउन की अवधि के दौरान उत्तराखंड से पौधे लाने के लिए जिला प्रशासन ने संजीव कुमार को पास भी जारी किया था ताकि संजीव कुमार अपने बगीचे के लिए और पौधे ला सकें।

इस मौके पर बागवानी उप निदेशक राजीव चंद्रा, कृषि उपनिदेशक सुरेश शर्मा, कृषि विकास अधिकारी विकास कपूर, विषय वस्तु विशेषज्ञ बागवानी प्रमोद शाह, उपमंडलीय भू संरक्षण अधिकारी शैलेश सूद और कृषि उत्पाद विपणन समिति के सचिव दीक्षित भी मौजूद रहे।

Next Story

हमीरपुर