Top
शिमला

स्कूलों का समय बढ़ाकर नुकसान की भरपाई करने की कवायद, सेकेंड सेटरडे को भी लगेगा स्कूल

28 April 2020 8:26 PM GMT
स्कूलों का समय बढ़ाकर नुकसान की भरपाई करने की कवायद, सेकेंड सेटरडे को भी लगेगा स्कूल
x

प्रदेश सरकार ने शिक्षा को पटरी पर लाने का प्लान तैयार कर लिया है। सरकार तीन मई के बाद सभी सरकारी स्कूल खोलने की तैयारी में है। इसके बीच एक बड़ा फैसला सरकार यह जरूर लेगी कि अभी छात्रों को नहीं बुलाया जाएगा, हालांकि प्रदेश सरकार तीन मई के बाद शिक्षकों व अन्य स्टाफ को जरूर बुलाने की तैयारी में है।

इसके तहत कर्फ्यू हटने के बाद प्रदेश में यातायात व्यवस्था पूरी तरह सामान्य होने पर ही स्कूल खोले जाएंगे। स्कूलों में शारीरिक दूरी का नियम तब तक लागू होगा, जब तक कोविड-19 का खतरा पूरी तरह समाप्त नहीं होगा। मौजूदा सत्र के दौरान शैक्षणिक दिवस पूरे करने के लिए स्कूलों में हर माह के दूसरे शनिवार (सेकेंड सेटरडे) को होने वाली छुट्टी को खत्म किया जा सकता है। सरकार शिक्षकों की ड्यूटी जनगणना व अन्य गैर शैक्षिक कार्यों में नहीं लगाएगी। स्कूलों में साल भर होने वाली गैर शैक्षणिक गतिविधियां भी नहीं होगी। स्कूल को खुला रखने का समय भी बढ़ाया जा सकता है।

शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने मंगलवार को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के साथ हुई वीडियो कांफ्रेंसिंग में प्रदेश में शिक्षा का एग्जिट प्लान साझा किया। एमएचआरडी के सामने शिक्षा मंत्री ने अपना प्लान बताया कि अगर स्कूलों को खोला भी जाता है, तो ऐसी स्थिति में छात्रों को सेक्शन वाइज बुलाया जाएगा, जिसमें नवीं से लेकर जमा दो तक के छात्रों को दो सेशन में बुलाया जाएगा, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग में छात्र अपनी पढ़ाई कर सकें। नवीं से 12वीं तक की कक्षाओं को सुबह और शाम की दो शिफ्ट में शुरू किया जाएगा। नवीं-दसवीं को सुबह और 11वीं-12वीं की कक्षा शाम के सत्र में लगाई जाएगी। छठी से 12वीं कक्षा के लिए एक दिन छोड़कर कक्षाएं शुरू की जाएंगी। इन कक्षाओं में सामाजिक दूरी का पालन करते हुए एक कक्षा के बच्चों को दो कमरों में बैठाकर पढ़ाया जाएगा। पहली से पांचवीं तक की कक्षाएं 15 मई के बाद शुरू करने का प्रस्ताव है। उन्होंने केंद्रीय मंत्री के समक्ष निजी कंपनियों द्वारा दूरदर्शन शिमला का प्रसारण न करने का मामला उठाया। केंद्रीय मंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया कि सभी कंपनियों को इस बारे में निर्देश जारी कर दिए जाएंगे। एक-दो दिन के भीतर निजी कंपनियों की डिश पर दूरदर्शन को दिखाया जाएगा ताकि बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो।

फिलहाल केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय ने साफ किया है कि स्कूल खोलने के लिए अभी तीन मई तक का इंतजार करें। उसके बाद राज्य सरकारों के फैसलों को देखा जाएगा।

Next Story