Top
नाहन

हिमाचल के पत्रकारों पर दर्ज मुकदमे हों रदद, सरकारें करे 50 लाख का बीमा-रास बिहारी

21 May 2020 4:24 AM GMT
हिमाचल के पत्रकारों पर दर्ज मुकदमे हों रदद, सरकारें करे 50 लाख का बीमा-रास बिहारी
x

नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्टस( इंडिया ) हिमाचल इकाई की ई- बैठक राज्याध्यक्ष रणेश राणा की अध्यक्षता में हुई जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष रास बिहारी विशेष तौर पर उपस्थित हुए। बैठक के दौरान प्रदेश के अधिकांश जिलों के पत्रकारों ने कोविड के दौरान आ रही अपनी समस्याएं सांझा कीं। राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य जोगिंद्र देव आर्य व प्रदेशाध्यक्ष महिला विंग सीमा शर्मा ने बताया कि राज्य स्तरीय बैठक के दौरान संगठन को मजबूत बनाने के लिए जहां रणनीति बनाई गई, वहीं प्रदेश भर में पत्रकारों पर कोविड-19 के दौरान बनाए गए झूठे केसों पर भी चर्चा की गई। साथ ही झूठे केसों की रिपोर्ट बनाकर राष्ट्रीय ध्यक्ष रास बिहारी बोस को सौंपने का भी निर्णय लिया गया। झूठे केसों पर हुई चर्चा के दौरान राष्ट्रीय रास बिहारी बोस ने कहा कि इस मामले को देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के समक्ष उठाया जाएगा। उन्होंने प्रदेश के पत्रकारों से आहवान किया कि संगठन को मजबूत करने के लिए सोशल मीडिया पर फेसबुक पेज बनाया जाए और टविटर पर भी अपनी गतिविधियों का प्रचार व प्रसार किया जाए।

उन्होने कहा कि हमने केंद्र सरकार के साथ साथ सभी प्रदेशों के सीएम को पत्रकारों का 50 लाख का बीमा करने को लिखा था लेकिन यह मांग आज तक अधूरी है। आज भी पत्रकार अपनी जान पर खेलकर लोगों को सटीक व सच्ची जानकारी देकर बीमारी के प्रति सही जानकारी दे रहे हैं लेकिन उनका ही भविष्य व उनके परिवार की सुरक्षा की चिंता किसी को नहीं है। बहुत से पत्रकार आज कोरोना का शिकार हुए हैं और उनकी नौकरी तक छूट गई और उनके परिवार आज मोहताज हो गए हैं। हमने सरकारों से सिर्फ बीमा मांगा था न कि कोई राहत लेकिन न जाने सरकारें मीडीया जगत की उपेक्षा कर रही है। प्रदेश महामंत्री किशोर ठाकुर, वरिष्ठ उपाध्यक्ष विशाल आनंद, श्याम लाल पुंडीर ने कहा कि प्रदेश में पत्रकारों को कोरोना वॉरियर्स नहीं माना गया और न ही उनका पचास लाख का बीमा किया गया जो कि सूबे के पत्रकारों के साथ अन्याय है। अश्विनी सैणी व सुरेंद्र अत्री ने कहा कि कोविड-19 के दौरान सूबे के पत्रकारों द्वारा सरकार की नीतियों और हर गतिविधि पर सकारात्मक रिपोर्टिंग की है लेकिन सरकार का रवैया पत्रकारों के प्रति सकारात्मक नहीं रहा और उल्टे छोटी छोटी बातों पर उन पर मुकदमे दर्ज किए गए। जो कि चिंतनीय विषय है।

प्रदेश के महासचिव किशोर ठाकुर ने ई बैठक के दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष रास बिहारी बोस को जानकारी देते हुए बताया कि पूरे प्रदेश में साढ़े चार सौ से अधिक पत्रकारों ने एनयूजे की सदस्यता हासिल कर ली है और ये क्रम आगे भी जारी है और रहेगा जबकि इससे पहले 18 साल सिर्फ 40 ही सदस्य थे। उन्होंने बताया कि जो पत्रकार एन.यू.जे की सदस्यता हासिल करने के इच्छुक हैं, उनके लिए ऑनलाईन सदस्यता के द्वार खोल दिए गए हैं। संगठन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष विशाल आनन्द, अश्विनी सैणी, सुमित शर्मा, पंकज कतना व जगमोहन शर्मा ने कहा कि देश में लोकतन्त्र है लेकिन कुछ अधिकारियों ने पत्रकारों के अधिकारों का हनन कर प्रदेश की जयराम सरकार की छवि को खराब करने का प्रयास किया है।

बैठक के दौरान एनयूजे हिमाचल के प्रदेशाध्यक्ष रणेश राणा के अलावा किशोर ठाकुर, सुरेंद्र अत्री, महिला विंग प्रदेशाध्यक्षा सीमा शर्मा, श्याम लाल पुंडीर, राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य जोगिन्द्र देव आर्य, महासचिव किशोर ठाकुर, आईटी विंग प्रमुख सुमित कुमार, विशाल आनन्द, रविंद्र तेजपाल, अश्वनी सैणी, सुरेन्द्र शर्मा, नीना धीमान, पंकज कतना समेत अन्य उपस्थित रहे।

Next Story