Top
चंबा

'कैच द रेन' अभियान के तहत पारम्परिक जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन पर विशेष बल

ManMahesh
10 Jun 2021 2:18 PM GMT
कैच द रेन अभियान के तहत पारम्परिक जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन पर विशेष बल
x
जिला में जल जीवन मिशन के तहत 237 पेयजल योजनाओं पर 10213 लाख रुपए व्यय किए जा रहे हैं.... उपायुक्त

डलहौज़ी हलचल (चंबा) : जल संरक्षण के प्रति आमजन को जागरूक करने के लिए जल शक्ति विभाग और संबंधित विभागीय अधिकारियों के साथ कैच द रेन व पर्वत धारा प्रोजेक्ट के तहत करवाए जा रहे कार्यों पर उपायुक्त डीसी राणा की अध्यक्षता में वर्चुअल बैठक के दौरान उन्होंने बताया कि 'कैच द रेन' अभियान के तहत जिला में जल संरक्षण के संदेश को जन-जन तक पहुंचाने तथा पारम्परिक जल स्त्रोतों के संरक्षण और संवर्धन पर विशेष बल दिया जा रहा है । उन्होंने बताया कि इस अभियान की शुरूआत जल संरक्षण का महत्व व उसकी उपयोगिता को लेकर जागरूकता बढ़ाने में आम जनमानस की सहभागिता सुनिश्चित करना है । उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत चैक डेम, वाटर हार्वेस्टिंग, हार्वेस्टिंग पीट इत्यादि बनाए जाएंगे। उन्होंने जल शक्ति तथा पंचायती राज विभाग के अधिकारियों से जिला के पारम्परिक जल स्त्रोत, तालाबों इत्यादि की सूची एकत्रित कर डाटा तैयार करने को भी कहा ताकि इन्हें मिशन मोड में ठीक करवाया जा सके। जिसके लिए प्रत्येक पंचायत एक जल स्रोत और तालाब का जीर्णोद्धार सुनिश्चित बनाएंगे ।

उन्होंने बताया कि लोगों की भागीदारी से भू-जल स्तर को बेहतर बनाने के लिए यह अभियान शुरू किया गया है। इस अभियान का मकसद जल संग्रहण के प्रति अधिक से अधिक लोगों को जागरूक करना है ताकि उपयुक्त जल भण्डारण से कृषि विविधता कार्यक्रम को बल मिल सके । उन्होंने बताया कि 'कैच द रेन' अभियान के तहत जिला में अधिशासी अभियंता जल शक्ति विभाग के कार्यालय में वर्चुअल प्रकोष्ठ जल शक्ति केन्द्र जल्दी क्रियाशील किया जा रहा है,जोकि लोगों को एक तकनीकी मार्गदर्शन के लिए कार्य करेगा ।

जल जीवन मिशन के तहत जिला चंबा में पेयजल योजनाओं के कार्यों की समीक्षा बैठक में उन्होंने बताया कि जिला की 237 पेयजल योजनाओं पर 10213 लाख रुपए की धनराशि व्यय की जा रही है ।

उन्होंने बड़ी पेयजल योजनाओं पर बल देते हुए कहा कि छोटी पेयजल योजनाएं सूखे से जल्द प्रभावित होती है लिहाजा बड़ी योजनाओं को ही तरजीह दी जाए । ताकि लोगों के लिए निर्बाध रूप से पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित बनी रहे ।

बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त चंबा मुकेश रेप्सवाल, अधीक्षण अभियंता जल शक्ति विभाग रंजीत सिंह चौधरी, अधिशासी अभियंता दिनेश कपूर, अधिशासी अभियंता देसराज, उपनिदेशक कृषि कुलदीप धीमान व वर्चुअल माध्यम से अन्य विभागों के अधिकारी भी जुड़े रहे ।


Next Story

हमीरपुर