Top
काँगड़ा

सड़क हादसे में 21 वर्षीय युवक की टूटी रीढ़ की हड्डी , परिवार पर टुटा दुखों का पहाड़

ManMahesh
7 Sep 2020 1:29 PM GMT
सड़क हादसे में 21 वर्षीय युवक की टूटी रीढ़ की हड्डी , परिवार पर टुटा दुखों का पहाड़
x
फ़तेहपुर के अंतर्गत ग्राम पंचायत लाड़थ के गांव वरोह के युवा सौरभ चौधरी पुत्र पवन कुमार की गत 24 जुलाई को एक सड़क दुर्घटना के दौरान रीढ़ की हड्डी टूट गई थी।

डलहौज़ी हलचल (ज्वाली) अनिल छांगू : फ़तेहपुर के अंतर्गत ग्राम पंचायत लाड़थ के गांव वरोह के युवा सौरभ चौधरी पुत्र पवन कुमार की गत 24 जुलाई को एक सड़क दुर्घटना के दौरान रीढ़ की हड्डी टूट गई थी। गम्भीर अवस्था मे उसे दो दिन टांडा में रखने के बाद डॉक्टरों ने उसे पीजीआई रैफर किया गया था । पीजीआई में क्लीनिकल टैस्ट के उपरांत दवाई देकर उसे घर भेज दिया गया था । 21 दिन के बाद उसे फिर से दिखाने को कहा गया । परन्तु इस बीच पीजीआई के डॉक्टर ने कोरोना की बात कहकर सौरभ चौधरी को फोन के माध्यम से दवाई की जानकारी दी तथा फिजीयोथरेपी करवाने का परामर्श दिया। ऐसे में लगभग सवा महीना के उपचार के उपरांत भी सौरभ चौधरी का नीचे का हिस्सा वैसे का वैसा ही है।

जानकारी मिलने के बाद मीडिया ने जब घर पर जाकर सौरभ चौधरी से अवगत होकर उससे जानकारी ली। इसी बीच एंजल दिव्यांग आश्रम के एमडी नीरज शर्मा भी उसके घर पर पहुंचे।उन्होंने पीजीआई की रिपोर्ट देखकर परिवार को जल्द से जल्द उसका ऑपरेशन करवाने की सलाह दी। नीरज शर्मा के मुताबिक डी-5, डी-6 की समस्या के चलते शरीर के नीचे का हिस्सा काम नहीं कर पा रहा है । स्थानीय बाशिंदों से जब इस बारे में बात की गई तो उनका कहना था कि मेल द्वारा पीजीआई की रिपोर्ट भेजकर जब एक बड़े अस्पताल से संपर्क किया गया। तो उन्होंने सौरभ चौधरी के ऑपरेशन के खर्चे का अनुमान लाखों रुपए बताया ।

वहीं ग्राम पंचायत लाड़थ के प्रधान सुरिन्द्र कुमार का कहना है कि अत्यंत गरीब से संबंधित सौरभ की उम्र लगभग 21 वर्ष है । गांववासियों ने अब तक लगभग ढाई लाख रुपए इक्कठे करके सौरभ चौधरी के इलाज हेतु दिए हुओं है। प्रधान के अनुसार सौरभ के पिता पवन कुमार दिहाड़ी लगाकर परिवार का लालन-पालन करते हैं। जबकि जमा दो की पढ़ाई के उपरांत सौरभ ने भी टैंट हाऊस में दिहाड़ी पर समारोह आदि में सामान लगाना शुरू कर दिया था ।

24 जुलाई को एक पिकअप व उनके टैंपो की घर वापिसी के दौरान आमने सामने टक्कर हो गई। जिससे सौरभ चौधरी की रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर हुआ। प्रधान के अनुसार सौरभ के 90 वर्षीय बुजुर्ग दादा फौजी राम ने अपने चार बेटों में से तीन बेटों को उनकी युवा अवस्था में ही खो दिया था। वहीं एक दोहत्र भी कुछ वर्ष पहले मात्र 20 वर्ष की उम्र में एक दुर्घटना में भगवान के चरणों में विलीन हो चुका है। ऐसे में प्रधान सुरिन्द्र कुमार ने भी सरकार से उक्त गरीब परिवार के युवा बेटे के इलाज के लिए आर्थिक मदद की गुहार लगाई है। इस बारे में उपायुक्त काँगड़ा राकेश प्रजापति का कहना है कि उन्हें इस बाबत जानकारी प्राप्त हुई है। सौरभ चौधरी के परिवार की हर संभव सहायता की जाएगी ।

Next Story