Top
काँगड़ा

धार्मिक कार्यक्रम के आयोजक के खिलाफ मामला दर्ज, कोरोना के 17 मामले आने के बाद हुई कार्यवाही

ManMahesh
8 Sep 2020 4:15 AM GMT
धार्मिक कार्यक्रम के आयोजक के खिलाफ मामला दर्ज, कोरोना के 17 मामले आने के बाद हुई कार्यवाही
x
प्रशासन ने धार्मिक कार्यक्रम के आयोजक के खिलाफ एफआइआर दर्ज की है। इस आयोजन में भाग लेने आए लोग संक्रमित पाए गए हैं।

डलहौज़ी हलचल (धर्मशाला) : कोरोना काल में चोरी छिपे कार्यक्रम करने वालों की अब खैर नहीं होगी । प्रशासन चोरी-छिपे समारोह का आयोजन करने वालों पर कड़ी कार्रवाई अमल में लाएगा। उपमंडल पालमपुर के तहत खैरा में रविवार को एक साथ कोरोना के 17 मामले आने के बाद सोमवार को स्वास्थ्य विभाग ने गांव का दौरा किया। टीम ने पाया कि गांव के एक व्यक्ति ने बिना अनुमति 22 अगस्त को हरितालिका व्रत पर कार्यक्रम करवाया था। इस आयोजन में भाग लेने आए लोग संक्रमित पाए गए हैं। प्रशासन ने धार्मिक कार्यक्रम के आयोजक के खिलाफ एफआइआर दर्ज की है।

पालमपुर के एसडीएम धर्मेश रामोत्रा ने बताया कि कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन करने वालों पर अब कानूनी कार्रवाई का ही विकल्प बचा है। बार-बार समझाने के बाद भी कुछ लोग चोरी-छिपे समारोहों का आयोजन कर रहे हैं, जिसमें काफी अधिक संख्या में लोगों को बुलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि खैरा में भी कोविड-19 के नियमों का खुला उल्लंघन हुआ है।

बता दें कि खैरा पंचायत के लज्ङिायां गांव में 22 अगस्त को एक परिवार ने हरितालिका व्रत पर कार्यक्रम करवाया था। इस दौरान धाम भी लगाई थी। कार्यक्रम में चंडीगढ़ से आए दो लोग भी शामिल हुए थे और उनकी 26 अगस्त को कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई थी। 31 अगस्त को आयोजक भी संक्रमित पाया गया था। एसडीएम पालमपुर धर्मेश रामोत्र ने बताया कि एक व्यक्ति के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद 43 लोगों के नमूने लिए थे और रविवार को 17 पॉजिटिव पाए गए हैं। कार्यक्रम के लिए प्रशासन से कोई अनुमति नहीं ली गई थी।

डीएसपी पालमपुर अमित शर्मा ने बताया कि कार्यक्रम आयोजक के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है। स्वास्थ्य विभाग ने रैपिड एंटीजन तकनीक से संदिग्ध मरीजों के सैंपल की जांच आरंभ कर दी है। इस तकनीक से सोमवार को 208 मरीजों के सैंपल लिए। इनमें से 22 सैंपल पॉजिटिव, 86 नेगेटिव आए व शेष की अभी रिपोर्ट आनी है।

Next Story