Top
नाहन

सेब और टमाटर की तरह नींबू प्रजाति को बनाएगें किसानों की आर्थिकी का जरिया-डॉ. बिन्दल

ManMahesh
7 Oct 2020 9:38 AM GMT
सेब और टमाटर की तरह नींबू प्रजाति को बनाएगें किसानों की आर्थिकी का जरिया-डॉ. बिन्दल
x
पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं विधायक डॉ. राजीव बिन्दल ने यह जानकारी आज नाहन में हिमाचल प्रदेश उद्यान विभाग के ‘शिवा परियोजना’ के तहत आयोजित किसान संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि अपने सम्बोधन में दी।

डलहौज़ी हलचल (नाहन) : केन्द्र और राज्य सरकार के संयुक्त तत्वावधान में नाहन विधानसभा क्षेत्र में सेब और टमाटर की तर्ज पर नींबू प्रजाति को किसानों की आर्थिकी का जरिया बनाया जाएगा। इस उददेश्य से जहां नाहन विधानसभा क्षेत्र में हाल ही के बरसात सीजन में एक लाख नींबू के पौधे निशुल्क वितरित किए गए वहीं गत वर्ष करीब 20 हजार नींबू के पौधे किसानों को बांटे गए थे। नाहन क्षेत्र में मौसम के अनुकूल गैर परम्परागत फसलों की खेती पर सघनता से विचार किया जा रहा है ताकि किसानों की आर्थिक दशा में सुधार हो सके। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं विधायक डॉ. राजीव बिन्दल ने यह जानकारी आज नाहन में हिमाचल प्रदेश उद्यान विभाग के 'शिवा परियोजना' के तहत आयोजित किसान संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि अपने सम्बोधन में दी। इस गोष्ठी में नाहन क्षेत्र के किसानों और स्वयं सहायता समूह की महिला प्रतिभागियों ने भाग लिया।


डॉ. बिन्दल ने बताया कि नाहन विधानसभा क्षेत्र का उद्यान विभाग के शिवा परियोजना के तहत चयन किया गया है जो कि क्षेत्र के किसानों के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर का बहुत बड़ा तोहफ़ा है। उन्होंने कहा कि परियोजना के प्रथम चरण में करीब 130 हैक्टयर क्षेत्र में सब ट्रापिकल एरिया के तहत अमरूद, मौसमी, लीची अनार व नींबू प्रजाति के बागीचों को विकसित किये जाने का प्रस्ताव है। उन्होंने कहा कि इससे जहां किसानों की आय बढ़ेगी वहीं रोज़गार के नये साधन सृजित होंगे और पर्यावरण में सुधार होगा। उन्होंने कहा कि कि हमारा प्रयास ग्रामीण क्षेत्रों की आर्थिक दशा में सुधार कर उनके जीवन यापन में बेहरत पारिर्वन लाना है ताकि हमारा किसान, हमारा बागवान खुशहाल और समृद्ध बन सके।


उन्होंने कहा कि परियोजना के तहत कम से कम 5-5 हैक्टयर यानि 60 बीघे का कलस्टर विकसित किया जाएगा और बागीचा लगाने के लिए सरकार और जन भागीदारी से सोलर फैंसिंग, सिंचाई व्यवस्था, पौधे रोपण, गढडे खुदवाना आदि कार्य किया जाना है। उन्होंने कहा कि इस परियोजना का मुख्य उददेश्य आय में असमानता दूर करना, सतत रोजगार के साधन विकसित करना, बीज से बाजार तक। उन्होंने कहा कि परियोजना के दूसरे चरण में प्रसंस्करण, होर्टिकल्चर टूरिज्म को बढ़ावा देना, मूल्य वृद्धि आदि रहेगा।


इस अवसर पर उद्यान विभाग के उप-निदेशक राजिन्द्र भारद्वाज, विषयवाद विशेषज्ञ डॉ. संतोष कुमार बक्शी, उद्यान विकास अधिकारी ज्योती ठाकुर ने परियोजना के सम्बन्ध में किसानों को विस्तृत जानकारी दी। जल शक्ति विभाग की ओर से अधीक्षण अभियंता सिरमौर जोगेंद्र चौहान ने शिवा परियोजना के तहत सिंचाई व्यवस्था के बारे में जानकारी प्रदान की। इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष विनय गुप्ता मंडल अध्यक्ष प्रताप ठाकुर, जिला परिषद सदस्य मनीष चौहान, भाजपा किसान मोर्चा के मंडल अध्यक्ष जोगेन्द्र ठाकुर, पंचायत प्रतिनिधि और अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।




Next Story