Top
नाहन

तस्वीरें : पंचतत्व में विलीन हुए हवलदार सुरेश कुमार ठाकुर

ManMahesh
1 Oct 2020 9:01 AM GMT
तस्वीरें : पंचतत्व में विलीन हुए हवलदार सुरेश कुमार ठाकुर
x
जिला प्रशासन के अधिकारी, नाहन आर्मी कैंट के अधिकारी, सेना के जवान व पुलिस की टुकड़ी और सैंकड़ों लोगों ने नम आँखों से शहीद को राजकीय व सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी।

डलहौज़ी हलचल (नाहन): जम्मू-कश्मीर के ऊधमपुर में मंगलवार को सेना का वाहन दुर्घटनाग्रस्त होने से शहीद हुए नाहन तहसील के कांडों कत्याड़ गांव के हवलदार सुरेश कुमार ठाकुर की पार्थिव देह बुधवार देर रात नाहन पहुंची । इसे मेडिकल कालेज नाहन में रखा गया था जहाँ से वीरवार सुबह शहीद की पार्थिव देह को गांव ले जाई गई । जिला प्रशासन के अधिकारी, नाहन आर्मी कैंट के अधिकारी, सेना के जवान व पुलिस की टुकड़ी और सैंकड़ों लोगों ने नम आँखों से शहीद को राजकीय व सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी।

इससे पहले शहीद की मां शीला देवी की आंखों से अपने बेटे को तिरंगे में लिपटा देख लगातार आंसू बह रहे थे। पत्नी शीला को यह समझ ही नहीं आ रहा था कि अचानक यह सब कैसे हो गया। 75 साल के पिता जोगिंदर सिंह हालांकि गमगीन थे। लेकिन इस बात पर भी गर्व महसूस कर रहे थे कि उनका बेटा देश के काम आया है। 15 व 12 साल के बेटे विवेक व आर्यन को ठीक से इस बात का भी नहीं पता था कि अब उनके पिता नहीं लौटेंगे। करीब 9:15 बजे के आसपास जब घर से अंतिम यात्रा शुरू हुई तो सैकड़ों लोगों की आंखें नम थी। मानो, समूचा धारटीधार ही शहीद को अश्रुपूर्ण विदाई दे रहा हो।

बुधवार सुबह ऊधमपुर के सेना कार्यालय में शहीद को उनकी यूनिट की ओर से सैन्य सम्मान दिया गया। इसके बाद सेना की गाड़ी ऊधमपुर से शहीद की पार्थिव देह लेकर निकली और दोपहर को पठानकोट पहुंची। इसके रात को पार्थिव देह नाहन पहुंची जहाँ पर मेडिकल कॉलेज के शव गृह में रखने की व्यवस्था हुई थी।

सैनिक वेलफेयर बोर्ड सिरमौर के उपनिदेशक मेजर (सेवानिवृत्त) दीपक धवन ने बताया कि शहीद की पार्थिव देह को वीरवार सुबह गांव लाया गया और यहां राजकीय व सैन्य सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई दी गई।

तस्वीरें






























Next Story