Top
शिमला

हिमाचल में सोमवार से नियमित लगेंगी 10वीं और 12वीं की कक्षाएं

ManMahesh
17 Oct 2020 2:01 AM GMT
हिमाचल में सोमवार से नियमित लगेंगी 10वीं और 12वीं की कक्षाएं
x
सरकार का कहना है कि अभी तक सारे यूजीसी की गाइडलाइन को फालो करते हुए निर्णय लिए गए हैं। आगे भी अब नई गाइडलान का इंतजार किया जा रहा है।

डलहौज़ी हलचल (शिमला) :- कोरोना महामारी के खतरे के बीच सात माह के लंबे अंतराल के बाद 19 अक्टूबर यानि सोमवार से हिमाचल में 19 अक्तूबर से दसवीं और बारहवीं कक्षा के लिए स्कूल खोल दिए जाएंगे। ऐसे में उक्त कक्षाओं के जो विद्यार्थी स्कूल आकर पढ़ाई करना चाहते हैं, उन्हें अभिभावकों का कंसैंट लैटर लेकर स्कूल आना होगा। कंसैंट लैटर के बिना विद्यार्थी को कक्षा में बैठने नहीं दिया जाएगा। यदि अभिभावक बच्चों को स्कूल भेजना चाहते हैं तो उन्हें सहमति पत्र भी देना होगा। यदि कोई अपने बच्चे को नहीं भेजते हैं तो वे भी इसके लिए बाध्य नहीं होंगे। एक माह तक न हाजिरी लगेगी और न परीक्षा होगी। शिक्षा मंत्री गो¨वद ठाकुर ने इस संबंध में शिक्षा निदेशालय को निर्देश दे दिए हैं।

उन्होंने कहा है कि नौवीं और 11वीं कक्षा के बच्चों को स्कूल बुलाने पर अभिभावकों की ओर से ई-पीटीएम में आने वाले सुझाव और माइक्रो प्लान में आए सुझावों को अध्ययन करने के बाद ही फैसला होगा। कक्षा पहली से आठवीं तक के स्कूल फिलहाल नहीं खोले जाएंगे। अभी मौखिक निर्देश दिए गए हैं।

उन्होंने कहा कि कालेजों में पढ रहे छात्रों को अगली कक्षा में प्रमोट करने का निर्णय जल्द ले लिया जाएगा। विभाग ने इसके लिए कैबिनेट प्रस्ताव बनाया हुआ है। जल्द मुख्यमंत्री से इस विषय पर चर्चा करेंगे और अंतिम निणर्य लिया जाएगा। सरकार ने संकेत दे दिए हैं कि परीक्षाएं करवाने को लेकर बेहद कम समय बचा है। विद्यार्थी अगले वर्ष की नियमित कक्षाएं लगा रहे हैं। ऐसे में अब विद्यार्थियों को प्रमोट करने का फैसला ही सही रहेगा। सरकार का कहना है कि अभी तक सारे यूजीसी की गाइडलाइन को फालो करते हुए निर्णय लिए गए हैं। आगे भी अब नई गाइडलान का इंतजार किया जा रहा है।

स्कूलों में नियमित रूप से कक्षाएं चलाने के लिए शिक्षा विभाग के निर्देशों के बाद स्कूलों ने इसके लिए माइक्रो प्लान बना लिया है। इसे शिक्षा निदेशालय को भेजा गया है। इसमें ई-पीटीएम के सुझाव भी शामिल किए जाएंगे। माइक्रो प्लान में स्कूलों को शिफ्टों में चलाने का तर्क दिया गया है। इसमें पहली शिफ्ट सुबह आठ या नौ बजे शुरू होगी। दूसरी शिफ्ट 12 बजे से शुरू होगी। शिफ्टों के हिसाब से ही स्कूल में शिक्षकों को बुलाया जाएगा। सुबह बच्चों की गेट पर ही थर्मल स्कैनिंग होगी। बच्चे एक साथ गेट से प्रवेश नहीं करेंगे। गेट से बच्चों को एक-एक कर अंदर भेजा जाएगा। अलग-अलग सेक्शन में 15-20 बच्चे ही बिठाए जाएंगे। बच्चों छुट्टी होने पर भी यही व्यवस्था रहेगी। स्कूल के प्रवेशद्वार पर में रस्सी लगाई जाएगी। स्कूल परिसर में मास्क खोलने की कतई अनुमति नहीं होगी। यह शर्त बच्चों के साथ शिक्षकों पर भी लागू होगी।

Next Story