Top
सोलन

रजाई बन गई कफ़न, आग से झुलसी दो बच्चियां, एक की मौत

ManMahesh
23 Feb 2021 12:11 PM GMT
रजाई बन गई कफ़न, आग से झुलसी दो बच्चियां, एक की मौत
x

डलहौज़ी हलचल (सोलन) : औद्योगिक क्षेत्र बीबीएन के तहत दासोमाजरा में आग लगने से प्रवासी मजदूरों की तीन झुग्गियां जलकर राख हो गई हैं। एक झुग्गी में दो बच्चियां थी, जो झुलस गई । इनमे से एक सात साल की बच्ची की मौत हो गई जबकि एक बच्ची बुरी तरह से झुलस गई, जिसका इलाज चल रहा है। मृतका की पहचान गौरी देवी (8) पुत्री रूप सिंह निवासी तवांड़ा हसनपुर उत्तर प्रदेश के रूप में हुई है। घायल बच्ची भी रूप सिंह की है। घटना की सूचना मिलते ही दमकल विभाग बद्दी की टीम मौके पर पहुंची और आग पर काबू पाया। प्रशासन की ओर से नायब तहसील की अगुवाई में टीम ने मौके पर पहुंचकर प्रभावितों को राहत राशि दी।

उत्तर प्रदेश के अमरोआ जिले के तलावड़ा गांव के रूप सिंह, रामवीर व संजय दासोमाजरा में विभिन्न उद्योगों में कार्यरत हैं। सोमवार को तीनों ड्यूटी पर थे। रूप सिंह पत्नी रचना अपनी 6 माह की बच्ची लक्ष्मी को सुलाने के बाद पानी भरने चली गई। लक्ष्मी के साथ उसकी बड़ी बहन गौरी भी सो गई। पीछे से झुग्गी में भीषण आग लग गई।

जब रचना लौटी तो उसकी तीनों झुग्गियां धू-धू कर जल रही थीं। वह अपनी जान की परवाह किए बिना जल रही झुग्गी में घुस गई। लक्ष्मी को रामवीर के भतीजे टिंकू ने निकाल लिया था, जिससे वह काफी हद तक बच गई। गौरी को रचना निकालकर लाई, लेकिन तब तक वह काफी झुलस गई थी। लोगों की मदद से दोनों को बद्दी अस्पताल पहुंचाया गया।

लक्ष्मी को बचाने वाले रामवीर ने बताया कि बच्चियां रजाई में सो रही थीं। उसे लक्ष्मी तो नजर आई, लेकिन गौरी के बारे में उसे पता नहीं था कि वह भी रजाई के अंदर सो रही है। नहीं तो वह उसे भी सही सलामत बाहर ले आता। बताया जा रहा है कि आग में रामवीर की दुकान भी जलकर राख हो गई, जिससे उसकी आजीविका चलती थी।

सूचना मिलते ही बद्दी से नायब तहसीलदार बलराज नेगी मौके पर आए और उन्होंने रूप सिंह को 10000 रुपये फौरी राहत दी। संजय व रामवीर को 5000-5000 रुपये दिए। DSP नवदीप सिंह ने मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिस इसकी जांच की जा रही है। उधर दमकल विभाग बद्दी के प्रभारी कुलदीप सिंह ने बताया कि आग लगने से तीन झुग्गियों में रखा सामान भी जल गया है। विभाग ने मुस्तैदी से आग पर काबू पाया और आसपास की करीब पांच लाख की संपत्ति जलने से बचा ली है।


Next Story

हमीरपुर