Top
राष्ट्रीय

पुलवामा हमले में एनआईए ने 11 आरोपियों के खिलाफ 5000 पन्नो की चार्जशीट पेश

ManMahesh
25 Aug 2020 9:20 AM GMT
पुलवामा हमले में एनआईए ने 11 आरोपियों के खिलाफ 5000 पन्नो की चार्जशीट पेश
x
चार्जशीट में कुल 20 आतंकियों के नाम हैं। जैश सरगना मसूद अजहर और रऊफ असगर मसूद का नाम भी चार्जशीट में शामिल है।

डलहौज़ी हलचल (ब्युरो) : गत वर्ष 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले को लेकर नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी आज जम्मू-कश्मीर की विशेष कोर्ट में दोपहर दो बजे के बाद चार्जशीट दायर की । ये चार्जशीट करीब पांच हजार पन्नों बताई गई है । पिछले साल 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर विस्फोटकों से भरी गाड़ी के जरिए आतंकी हमला किया गया था और इस हमले में देश के 40 जवान शहीद हो गए थे। सीआरपीएफ के जवान 78 गाड़ियों में सवार होकर दोपहर साढ़े तीन बजे के करीब जम्मू श्रीनगर हाईवे पर लठपोरा के नजदीक पहुंचे और एक अज्ञात वाहन 350 किलो विस्फोटक सामग्री के साथ कानवाई में घुस गया और एक ट्रक को ट्रक मार दी। विस्फोट हुआ और जवान शहीद हो गए। इसके बाद पूरे क्षे़त्र को सुरक्षा बलों ने घेर लिया और घायल जवानों को अस्पताल पहुंचाया। आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के असली साजिशकर्ता अभी भी पाकिस्तान में मौजूद हैं।

चार्जशीट में कुल 20 आतंकियों के नाम हैं। जैश सरगना मसूद अजहर और रऊफ असगर मसूद का नाम भी चार्जशीट में शामिल है। मसूद अजहर के भतीजे उमर फारुक और अदील डार के अलावा हमले में शामिल आतंकियों के बीच बातचीत और व्हाट्सएप चैट की डिटेल्स भी शामिल है। पाकिस्तान से इंटरनेशनल बॉर्डर के जरिये आरडीएक्स लाए जाने की पूरी साजिश की डिटेल चार्जशीट में है।

एनआईए ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला करने के आरोपी बिलाल अहमद कुचे को गिरफ्तार किया है। बिलाल अहमद की गिरफ्तारी कश्मीर के पुलवामा से हुई है। गिरफ्तारी के बाद एनआईए ने बिलाल अहमद को जम्मू की स्पेशल एनआईए कोर्ट में पेश किया और अदालत ने 10 दिन की एनआईए रिमांड पर भेज दिया। पुलवामा हमले में एनआईए अब तक 7 आतंकियों को गिरफ्तार कर चुकी है। बिलाल अहमद कश्मीर के पुलवामा का रहने वाला है और अपने घर में ही आरा मशीन चलाता है।

बिलाल अहमद ने हमले से पहले आतंकी अदील अहमद डार और बाकी आतंकियों को अपने घर पर छिपने में मदद की थी और बाद में ओवर ग्राउंड वर्कर जो कि आतंकियों को मदद पहुंचाने का काम करते हैं, से मिलवाया था। बिलाल अहमद के कहने पर बाकी ओवर ग्राउंड वर्कर ने हमले से पहले आतंकियों को दूसरी जगह छिपाया, जहां हमले की योजना बनाई गई थी।

बिलाल ने आतंकियों को मंहगे मोबाइल फोन लेकर दिए जिन के जरिये आतंकी पाकिस्तान में जैश ए मोहम्मद के सरगनाओं से बातचीत करते थे। बिलाल के दिलाए मोबाइल से ही अदील अहमद डार का एक वीडियों बनाया गया जो CRPF पर हमले के बाद वायरल किया गया। एनआईए ने इस मामले में 2 जुलाई को मोहम्मह इकबाल राठर को गिरफ्तार किया था जो कि पहले से ही जेल में बंद था। एनआईए ने इस पुलवामा हमले के आरोपी आतंकियों को पनाह देने के आरोप में बाप-बेटी, तारिक अहमद शाह और इंशा जां को भी गिरफ्तार किया था।

अब तक एनआईए इस मामले में शाकिर बशिर मार्जरे, तारिक अहम शाह, इंशा जां, वैज उल इस्लाम, मोहम्मद अब्बास राठर और मोहम्मद इकबाल राठर को गिरफ्तार कर चुकी है।

Next Story